Monday, September 26, 2022
Homeफेस्टिवलअगस्त महीने की शुरुआत से ही शुरू हो जाएंगे त्योहारों, यहां देखिए...

अगस्त महीने की शुरुआत से ही शुरू हो जाएंगे त्योहारों, यहां देखिए पूरी सूची

इंडिया न्यूज, August 2022 Festival Calendar: अगस्त माह शुरू होने वाला है। और इसके साथ ही त्योहारों की भी शुरुआत होने जा रही है। अगस्त में एक तरफ तो सावन मास का शुक्ल पक्ष होता है तो दूसरी ओर भाद्रपद यानी कि भादों मास के कृष्ण पक्ष के दिन शामिल होते हैं। इन्हीं दो माह की युगलबंदी में नागपंचमी, जन्माष्टमी, तीज, और रक्षाबंधन जैसे पवित्र त्योहार पड़ते हैं। इस साल सावन पूर्णिमा दो दिन है, 11 और 12 अगस्त को। तो आइए जानेंगे अगस्त में कौन-कौन से त्योहार पड़ने वाले हैं।

31 जुलाई को हरियाली तीज

सावन के शुक्ल पक्ष में पहला बड़ा पर्व है हरियाली तीज पड़ रही है जोकि 31 जुलाई को मनाई जाएगी। इस दिन देवी पार्वती के लिए विशेष व्रत किए जाते हैं। महिलाएं अपने वैवाहिक जीवन में सुख-शांति और प्रेम बनाए रखने के लिए देवी पूजा करती हैं, व्रत करती हैं। हरियाली तीज पर मथुरा-वृंदावन में झुलनोत्सव मनाया जाता है। श्रीकृष्ण के मंदिरों में भगवान की प्रतिमाओं को झूला झुलाया जाता है।

नाग पंचमी 2 अगस्त को 

दो अगस्त को नाग पूजा का महापर्व नाग पंचमी है। शिवलिंग के साथ स्थापित नाग देव की पूजा करें। नाग देव की तस्वीर का भी पूजन कर सकते हैं। नाग देव की प्रतिमा को दूध चढ़ाएं, जीवित सांप को दूध न पिलाएं। नाग पंचमी पर उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मंदिर में नाग चंद्रेश्वर भगवान का मंदिर भक्तों के लिए खोला जाता है। ये मंदिर साल में सिर्फ एक दिन नाग पंचमी पर खोला जाता है।

8 अगस्त को पुत्रदा एकादशी

सावन माह के शुक्ल पक्ष में दो सावन सोमवार रहेंगे। पहला 1 अगस्त को और दूसरा 8 अगस्त को रहेगा। 8 अगस्त को पुत्रदा एकादशी रहेगी। इस दिन शिव जी के साथ भगवान विष्णु के लिए व्रत-उपवास करें। श्रीकृष्ण का अभिषेक करें। ऊॅ  नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जप करें।

अगस्त में पूर्णिमा दो दिन

सावन माह की पूर्णिमा दो दिन रहेगी-11 और 12 अगस्त को। रक्षाबंधन 11 अगस्त को मनाना ज्यादा शुभ रहेगा। 12 अगस्त को स्नान और दान की पूर्णिमा रहेगी। इसी दिन भाद्रपद मास की प्रतिपदा तिथि रहेगी। सावन पूर्णिमा पर शिव का विशेष अभिषेक जरूर करें।

19 अगस्त को जन्माष्टमी 

भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाती है। इस दिन श्री कृष्ण की पूजा करने से उनकी कृपा प्राप्त होती है। इस दिन उनका शृंगार करके उन्हें अष्टगंध चंदन, अक्षत और रोली का तिलक लगाएं। इसके बाद उन्हें माखन मिश्री का भोग अर्पित करें। भगवान के एकादश अक्षरी मंत्र ओम नमो भगवते वासुदेवाय का जाप करें। इसके बाद हाथ में फूल और चावल लेकर उन्हें चौकी पर रखें और श्री कृष्ण का आह्वान करें।

30 अगस्त को हरतालिका तीज

भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को हरितालिका तीज व्रत का अनुष्ठान किया जाता है। यह व्रत सुहागन महिलाएं पति की लंबी आयु के लिए रखती हैं। इस व्रत में भी कजरी तीज की तरह भगवान भोलेनाथ और माता पार्वती की पूजा की जाती है। हिंदू धर्म में ऐसी मान्यता है कि भगवान भोलेनाथ को अपने पति के रूप में पाने के लिए माता पार्वती ने हरितालिका तीज व्रत रखा था।

31 अगस्त को गणेश चतुर्थी

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि यानी कि 31 अगस्त बुधवार को गणेश चतुर्थी मनाई जाएगी। देशभर में गणेश उत्सव पूरे 10 दिनों तक मनाया जाता है। खासकर महाराष्ट्र में गणेश चतुर्थी का पर्व बहुत ही भव्य रूप से मनाया जाता है। बप्पा का विसर्जन अनंत चतुर्दशी के दिन किया जाता है।  मान्यता है कि गणपति बप्पा को इस दिन अपने घर में लाकर विराजमान करने से वे अपने भक्तों के समस्तम विध्न, बाधाएं दूर करते हैं।
SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular