Sunday, January 29, 2023
Homeजयपुरअरूणांचल प्रदेश में सेना का एक हेलीकाप्टर क्रैश होने से, राजस्थान में...

अरूणांचल प्रदेश में सेना का एक हेलीकाप्टर क्रैश होने से, राजस्थान में बनाई गयी काली दिवाली

- Advertisement -

(जयपुर): यह दिवाली राजस्थान के लिए बहुत ही मनहूस साबित हुई। दरसल अरुणांचल प्रदेश में हुए हेलीकाप्टर हादसे में शहीद जवानों का अंतिम संस्कार, उनके पैतृक गांव में राजकीय सम्मान के साथ किया गया। रोहित्सव कुमार का अंतिम संस्कार झुंझनू के पोसाना गांव में किया गया है, तो वहीं विकास भांभू  की चिता को मुखाग्नि उनकी छोटी-छोटी बच्चियों के हाथों से दिलवाई गई।

जिसको देख वहा खडे सभी का दिल भर आया। अपको बता दे कि राजस्थान के ही रहने वाले तीसरे जवान मजमुस्तफा जकीउद्दीन बोहरा भी उक्त हादसे में शहीद हुए थे। उन्हें रविवार यानी दिवाली वाले दिन उदयपुर में सम्मान के साथ दफनाया गया था।

शहीदो के अंतिम संस्कार में दिवाली का जश्न छोड़कर शामिल हुए सैकड़ों लोग

शहीद रोहित्सव कुमार और विकास भांभू के अंतिम संस्कार के दौरान सैकड़ों की संख्या में लोग दिवाली त्यौहार का जश्न छोड़कर शामिल हुए। शहीदों की विदाई के दौरान सभी की आंखें नम थी और राष्ट्रभूमि के लिए अपने प्राणों का त्याग देने वाले सैनिकों की शान में गगनभेदी नारे लगते रहे।

झुंझनू में शहीद रोहित्सव कुमार को मंत्री राजेंद्र गुढ़ा, अतिरिक्त जिला कलेक्टर जेपी गौड़ और एसपी मृदुल काछवा ने भी पूरे सम्मान के साथ श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके पहले शहीद का पार्थिव शरीर रविवार यानी दिवाली वाली रात करीब साढ़े नौ बजे गुधागौडजी थाने पहुंचा था, जहां से अंतिम संस्कार के लिए रवाना किया गया।

शहिदों की अंतिम यात्रा में ये मंत्री हुए शामिल

खब़रो के अनुसार, पुलिस ने बताया कि सैनिक वेल्फेयर मंत्री राजेन्द्र सिंह गुढ़ा, पूर्व विधायक शुभकरन चौधरी, आरएलपी जिला प्रमुख दिनेश कुमार दोदिया, एसडीओ राम सिंह राजावत, डीएसपी सतपाल सिंह गुढ़ा शहीद के अंतिम संस्कार के समय मौजूद रहे।

गौरतलब है कि बीते शुक्रवार यानी धनतेरस वाले दिन अरूणांचल प्रदेश में सेना का एक हेलीकाप्टर क्रैश हो गया था, जिसमें पांच जवान सवार थे। इन जवानों में शामिल तीन राजस्थान के थे जो शहीद हो गए। जिस जगह पर हादसा हुआ, वहां सड़क मार्ग से जाना संभव नहीं था, इसलिए मौके पर पहुंचने में आर्मी को समय लगा।


उधर, शहीद मेजर विकास भंभू का पार्थिव शरीर दोपहर करीब 1 बजे उनके पैतृक गांव रामपुरिया पहुंचा। सैन्य और राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया।

इस दौरान प्रभारी मंत्री गोविंदराम मेघवाल, संगरिया विधायक  गुरदीप शाहपीनी, एसपी अजय सिंह राठौड़, एनिमल वेल्फेयर बोर्ड के प्रमुख केसी बिश्नोई, पीसीसी सदस्य शबन गोदारा, सांसद निहालचंद मेघवाल, पूर्व कैबिनेट मंत्री डा. रामप्रताप, पूर्व कैबिनेट मंत्री सुभाष महरिया, भाजपा जिला प्रमुख बलबीर बिश्नोई, पूर्व नोहर विधायक अभिषेक मटोरिया समेत सैकड़ों की संख्या में आस-पास के लोग व ग्रामीण मौजूद रहे।

लगाये गये ‘भारत माता की जय’ के नारे

इसके पहले मेजर का पार्थिव शरीर सूरतगढ़ के सैन्य थाने से सुबह पैतृक गांव भेजा गया। इस दौरान ‘भारत माता की जय’ के नारों के बीच बड़ी संख्या में सड़क के दोनों ओर खड़े लोगों ने पार्थिव शरीर पर पुष्पवर्षा की। इस यात्रा के दौरान भारी संख्या में लोगों ने तिरंगा हाथों में लिया हुआ था।

 

खब़रे और भी हैं:राजस्थान विधानसभा चुनाव 2023 में सचिन पायलट बीजेपी में प्रवेश करेंगे, कांग्रेस में ही रहेंगे या कही और ठिकाना बनायेंगे? जाने पूरा मामला

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular