Sunday, January 29, 2023
Homeजयपुरराजस्थान के युवा बेरोजगारों का गुजरात में सत्याग्रह जारी, गांधी जी की...

राजस्थान के युवा बेरोजगारों का गुजरात में सत्याग्रह जारी, गांधी जी की प्रतिमा के सामने काले दीये बिना जलाये रखकर, जताया विरोध

- Advertisement -

(जयपुर): राजस्थान के युवा बेरोजगारों की विभिन्न मांगों को लेकर अहमदाबाद गुजरात में 22 दिन से युवा बेरोजगारों का सत्याग्रह लगातार जारी है। आज यानि 24 अक्टूबर को साबरमती आश्रम में गांधी जी की प्रतिमा के सामने पांच काले दीये रखे गये, लेकिन हैरानी की बात ये रही कि वे दीये वहा बिना जलाये रखे गये थे। यहा छोटी काली दीपावली मनाकर विरोध जताया गया।

कल सैकड़ो युवा बेरोजगार अहमदाबाद गुजरात में बिना खाना खाए काली दिवाली मनाएंगे। राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष उपेन यादव ने बताया कि जब तक मुख्यमंत्री जी से युवा बेरोजगारों के प्रतिनिधिमंडल की वार्तालाप होकर ही समस्याओं का निस्तारण नहीं हो जाता,  तब तक हम गुजरात से राजस्थान नहीं लौटेंगे और अंतिम सांस तक लड़ाई लड़ेंगे।

उपेन यादव ने क्या कहा

अपको बता दें, कि महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष उपेन यादव ने 2 अक्टूबर गांधी जंयती के दिन गुजरात में दांडी यात्री निकाली थी। उपेन यादव का कहन है कि सीएम अशोक गहलोत को बेरोजगारों की मांग माननी चाहिए। हमारी 21 सूत्रीय मांगे है, लेकिन सीएम अशोक गहलोत की तरफ से हमें कोई आश्वासन नहीं मिला है।

राज्य सरकार ने वार्तालाप के लिए नहीं बुलाया है। हमें सीएम अशोक गहलोत से यह उम्मीद नहीं थी। सीएम गहलोत खुद को गांधीवादी नेता कहते हैं लेकिन हमारे सुनवाई नहीं कर रहे हैं।

राजस्थान बेरोजगार महासंघ ने निकाली दांड़ी यात्रा 

आपको बता दें कि राजस्थान बेरोजगार महासंघ अपनी 20 सूत्रीय मांगों को लेकर दांड़ी यात्रा निकाल रहा है। जिनमें  कंप्यूटर अनुदेशक भर्ती में 40फीसदी की बाध्यता में शिथिलता देकर सभी खाली पदों को भरने, राजकीय आईटीआई कॉलेजों में 1500 पदों पर कनिष्ठ अनुदेशक भर्ती की विज्ञप्ति जारी करने, पंचायतीराज JEN भर्ती की विज्ञप्ति जारी करने, ग्राम पंचायत ई मित्र संचालक संघ से जुड़े ई मित्र ऑपरेटर अभ्यर्थियों की तमाम मांगों को जल्द से जल्द पूरा करने और प्रतियोगी भर्ती परीक्षाओं में ओबीसी ईडब्ल्यूएस के नवीनतम सर्टिफिकेट को मान्य किया और किसी भी चयनित अभ्यर्थियों को सर्टिफिकेट की वजह से बाहर नहीं करने की मांग की और यही मांग प्रमुख है।

 

 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular