Friday, October 7, 2022
Homeराजस्थानराजस्थान सरकार के नरम रुख ने बढ़ाया पीएफआई का मनोबल: सांसद किरोड़ी...

राजस्थान सरकार के नरम रुख ने बढ़ाया पीएफआई का मनोबल: सांसद किरोड़ी लाल मीणा

इंडिया न्यूज़, Rajasthan News: भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा ने मंगलवार को एक गुमनाम व्यक्ति से धमकी भरा पत्र मिलने का दावा करने के बाद कहा कि राजस्थान सरकार ने “एक नरम रुख अपनाया है”। जिससे चरमपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया का लोगों को धमकाने के लिए मनोबल बढ़ा है। मीणा ने कहा कि उन्हें कादिल अली नाम के एक व्यक्ति से धमकी भरा पत्र मिला जिसने उन्हें मरने की धमकी दी थी।

उन्होंने गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर मामले की जांच करने का आग्रह किया है। मीना ने कहा, मैं उदयपुर में कन्हैया लाल के परिवार से मिलने गया था। मैंने उनके परिवार को अपना एक महीने का वेतन देने की घोषणा की थी। इस धमकी पत्र में उसका भी उल्लेख किया गया है कि मैंने अपराध करने वाले की मदद की है। ऐसा करके तुमने अपराध किया है।

करौली हिंसा से जुड़े थे पीएफआई से जुड़े लोग

मीणा ने कहा कि मैंने मुख्यमंत्री से जांच की मांग की है। मैंने शीर्ष अधिकारियों को भी पत्र भेजा है। मैंने करौली घटना के खिलाफ आंदोलन में भी भाग लिया था, जहां मैंने दोषियों की गिरफ्तारी की मांग की थी। मुख्य आरोपी हैं पीएफआई से जुड़े लोग। अब तक उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया है। लोगों के मन में डर है, मैं मुख्यमंत्री से लोगों को इस डर से मुक्त करने की मांग करता हूं।

सरकार ने अपनाया नरम रुख

हिंसा पर विस्तार से बताते हुए, भाजपा सांसद ने कहा कि पीएफआई ने घटना से पहले राज्य सरकार को चेतावनी दी थी, हालांकि, गहलोत सरकार ने उनके प्रति नरम रुख अपनाया, जिससे उनका मनोबल बढ़ा। बाद में घटना में पीएफआई का हाथ पाया गया। राजस्थान सरकार का उनके प्रति नरम रवैया है, इससे उनका मनोबल बढ़ा है। लोगों को बार-बार धमका रहे हैं। सरकार को उनसे सख्ती से निपटना चाहिए।

कन्हैयालाल को सुरक्षा मिलती तो होती उनकी हत्या

भाजपा नेता ने आगे कहा कि सोशल मीडिया पर नूपुर शर्मा का समर्थन करने के लिए उदयपुर में जिन कन्हैया लाल का सिर कलम कर दिया गया था, अगर उन्हें सुरक्षा दी गई होती तो उन्हें नहीं मारा जाता। उन्होंने कहा, “आम लोगों को डर से मुक्त होना चाहिए। उन्हें सुरक्षा दी जानी चाहिए। अगर कन्हैया लाल को सुरक्षा मिलती, तो उनकी जान नहीं जाती। अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें : सरपंचों के विरोध के चलते राजस्थान में आज सभी ग्राम पंचायतें बंद, जाने क्या है पूरा मामला

Connect With Us : Twitter, Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular