Tuesday, November 29, 2022
Homeराजस्थानराजस्थान में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात, NDRF और SDRF की...

राजस्थान में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात, NDRF और SDRF की टीमें बचाव कार्यों में जुटी

- Advertisement -

इंडिया न्यूज़, Rajasthan Weather Update: राजस्थान में फिर से सक्रिय हुए नए वेदर सिस्टम ने लोगों के मुस्किले बढ़ा दी हैं। पिछले दो दिन से लगातार हो रही बारिश से कईं जिलों में बाढ़ आ गई है। जिसके चलते हजारों लोग फंस गए। वहीं ऐसे हालातों से बिगड़ने के लिए NDRF, SDRF और सेना की टीमों को लगाया गया है। वहीं आज पूर्व सीएम वसुंधरा राजे झालावाड़, बारां में बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे करेंगी।

झालावाड़ में सबसे ज्यादा बारिश

प्रदेश में दो दिनों से लगातार बारिश हो रही है। प्रदेश में सबसे ज्यादा बरसात झालावाड़ में 11.3 इंच हुई। वहीं राजधानी जयपुर में भी मंगलवार को बादल जमकर बरसे। इस भारी बारिश से 33 में से 26 जिलों में अब तक औसत से करीब 20% ज्यादा बारिश हो चुकी है।वहीं इस बारिश के चलते 22 में से तीन बांध तो पूरी तरह भर गए। इन बांधों के भरने से अब आसपास के शहर और गांवों में बाढ़ का खतरा भी बढ़ने लगा है। अगर एक इंच भी बारिश होती है तो बांधो से पानी आसपास के क्षेत्र में जा सकता है।

10 जिलों में बाढ़ के हालात

राज्य में दो दिन हो रही लगातार बारिश से करीब 10 जिले संकट में हैं। कई जगहों से लोगों को रेस्क्यू किया गया है। ऐसे हालातों से निपटने के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें पांच जिलों में तैनात हैं। यही नहीं सेना को भी राज्य में मदद के लिए बुलाया गया है। झालावाड़ में सेना की एक यूनिट भी बुलाई गई है। वहीं कोटा बैराज(Kota Barrage Dam) से पानी छोड़ा गया तो धौलपुर और करौली में हालात बिगड़ने लगे। धौलपुर के 25 और करौली के 6 गांव खाली कराने पड़े।

आज भी बारिश को लेकर इन जिलों में अलर्ट जारी

मौसम की माने तो आज भी राज्य के कईं जिलों में बारिश का दौर जारी रह सकता है। मौसम विभाग ने आज भी 10 जिलों में बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है। आज राजधानी जयपुर के साथ बीकानेर, जैसलमेर, बाडमेर, जालोर, सिरोही, प्रतापगढ़,उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाड़ा जिलों में बारिश की संभावना जताई है।

NDRF और SDRF की करीब 20 टीमें प्रदेशभर में तैनात

इस भारी बारिश के चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। धौलपुर और झालावाड़ में हजारों लोग पानी में फंसे हुए हैं, जिन्हें रेस्क्यू करना पड़ रहा है। वहीं बारां के छबड़ा क्षेत्र में फसें लोगों को एयरलिफ्ट करना पड़ा है। ऐसे हालातों से निपटने के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की करीब 20 टीमें प्रदेशभर में तैनात हैं। वहीं मौसम विभाग ने 26 अगस्त के बाद से बारिश का दौर धीमा पड़ने की संभावना जताई है।

ये भी पढ़ें : तकनीकी खराबी के चलते सेना के हेलीकॉप्टर की आपात लैंडिंग, धोलीपाल गावं में खेत में उतरना पड़ा

Connect With Us : Twitter, Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular